Home खबर एकमुश्त भरण-पोषण के लिए पति,पत्नि को नौ लाख रुपए देने सहमत, महिला...

एकमुश्त भरण-पोषण के लिए पति,पत्नि को नौ लाख रुपए देने सहमत, महिला और बुजुर्गों के अधिकारों का सम्मान करना सबकी नैतिक जवाबदारी, आयोग में उपस्थित छात्राओं को अध्यक्ष ने महिला अधिकारों से अवगत कराया, बिना तलाक के दूसरी शादी करना गंभीर अपराध।

Author

Date

Category

रायपुर 08 जनवरी 2021/सूरजपुर निवासी की राज्य से बाहर रांची में आत्महत्या के प्रकरण में परिजनों ने राज्य महिला आयोग में मृतका के मृत्यु पर कार्रवाई करने हेतु आवेदन प्रस्तुत किया गया था।उक्त प्रकरण में उपस्थित मृतक के सहपाठीयो ने मृतक छात्रा के संबंध में अध्यक्ष को विस्तार पूर्वक जानकारी दी।दोनों पक्षो को सुनने के बाद प्रकरण को नस्तीबद्ध किया गया।इसके पश्चात उपस्थित छात्राओं को अध्यक्ष ने महिला आयोग के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई।अध्यक्ष ने छात्राओं को महिला अधिकारों से अवगत कराते हुए,इन अधिकारों का भविष्य में गलत उपयोग नही करने की सलाह दी।
एक अन्य प्रकरण में पति-पत्नी आपसी सहमति से विवाह बंधन से मुक्त होने पर सहमति दी।विवाह बंधन से मुक्त होने के लिए पति ने पत्नि को एकमुश्त भरण पोषण की राशि नौ लाख रुपए को सहर्ष देने पर सहमत हुए।आयोग ने दोनों पक्षो को निर्देशित किया कि भविष्य में इस प्रकरण से संबंधित आवेदन कही और प्रस्तुत नही किया जाएगा।इस शर्त के उल्लंघन पर आयोग द्वारा जारी आदेश स्वमेव निरस्त माना जाएगा।इसी तरह एक अन्य प्रकरण में महिला द्वारा बिना तलाक के आर्य समाज मे दूसरी शादी करने को गंभीर अपराध माना।इसके लिए आयोग के अध्यक्ष ने महिला को न्यायालय के समक्ष आवेदन प्रस्तुत करने कहा।इसके साथ-साथ महिला को उनके दोनों बच्चों से मिलने के लिए महिला के सुविधानुसार अधिवक्ता की मध्यस्थता में एक घंटा मिलने देने पर सहमत हुए।

इसी तरह तीन माह पूर्व विवाह संबंध में बंधे दम्पति आयोग की समझाइस पर भी एक साथ रहने सहमत नही होने पर,उन्हें न्यायालय के शरण मे जाने की सलाह दी गई। एक अन्य प्रकरण में आयोग के अध्यक्ष ने महिला और बुजुर्ग के अधिकारों का सम्मान करने की बात कही।बच्चे अपने कर्तव्यों से दूर न भागे।माता-पिता की संपत्ति पर उनके बच्चों का अधिकार होता है।यह अधिकार माता-पिता के जीवित होने पर इच्छा के विरुद्ध बच्चो को नही दिया जा सकता।

आयोग के समक्ष प्रस्तुत ऐसे प्रकरण जो पहले से पुलिस या न्यायालय में दर्ज किया जा चुका है,ऐसे प्रकरणो को नस्तीबद्ध किया गया।इसी तरह अतिक्रमण,निजी संस्थानों में वेतन,नियुक्ति आदि के संबंध में अनावश्यक आवेदन देकर आयोग का समय बर्बाद न करें।ऐसे विविध मामलों की लिए शासन द्वारा अलग संस्थान है,जहाँ पर प्रकरण को प्रस्तुत किया जा सकता है।छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ किरणमयी नायक ने आज विभिन्न जिलों की महिलाओ द्वारा दिए गए आवेदनों की आयोग कक्ष में जन सुनवाई की।आज प्रस्तुत प्रकरण में शारीरिक शोषण,मानसिक प्रताड़ना,दहेज प्रताड़ना, सम्पत्ति विवाद आदि से संबंधित थे।सुनवाई के दौरान सोसल डिस्टेंसिंग व फिजीकल डिस्टेंसिंग एवं सैनिटाईजर का प्रयोग करते हुए कार्यवाही प्रारंभ की गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Linda Barbara

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Vestibulum imperdiet massa at dignissim gravida. Vivamus vestibulum odio eget eros accumsan, ut dignissim sapien gravida. Vivamus eu sem vitae dui.

Recent posts

चोंढ़ा में 200 बेड का कोविड अस्पताल बनकर है तैयार, कलेक्टर श्री सिंह ने निरीक्षण कर ऑक्सीजन सिलेंडर सहित जरूरी संसाधन व्यवस्थित करने के...

  रायगढ़, 16 अप्रैल2021/ खरसिया से 5 किलोमीटर दूर चोंढ़ा में कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए 200 बेड का अस्पताल बनकर तैयार है।...

रायगढ़ विधायक प्रकाश नायक ने आज दोपहर रायगढ़ के कलेक्टर भीमसिंह व एसपी संतोष सिंह के साथ स्व.लखीराम अग्रवाल मेडिकल चिकित्सा महाविद्यालय हॉस्पिटल रायगढ़...

रायगढ़ के युवा विधायक प्रकाश नायक ने आज दोपहर रायगढ़ के कलेक्टर भीमसिंह व एसपी संतोष सिंह के साथ स्व.लखीराम अग्रवाल मेडिकल चिकित्सा महाविद्यालय...

मुख्यमंत्री की अपील पर वेतन देने वाले प्रदेश के पहले विधायक प्रकाश नायक, रायगढ़ कलेक्टर को चेक देकर मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा कराया...

  छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से राज्य में कोरोना की स्थिति पर नियंत्रण के संबंध में मंत्रीगणों सहित कॉग्रेस पार्टी के...

आईपीएल सट्टेबाजी की सूचना पर कोतवाली टीआई की लाल टंकी और शहीद चौक पर रेड, सट्टे की दो कार्यवाही में चार आरोपी गिरफ्तार 14.50...

आईपीएल सट्टेबाजी की सूचना पर कोतवाली टीआई की लाल टंकी और शहीद चौक पर रेड, सट्टे की दो कार्यवाही में चार आरोपी गिरफ्तार 14.50...

ओवररेट खाद्य सामग्री बेचने वालों पर गिरी प्रशासनिक गाज, एसडीएम सहित जिला प्रशासन की टीम ने 4 दुकानों को किआ सील, सोशल डिस्टेंस का...

  रायगढ़ जिले में 14 अप्रैल से 22 अप्रैल तक संपूर्ण लॉक डाउन की घोषणा हो चुकी है जिला कलेक्टर भीम सिंह ने रायगढ़ जिले...

Recent comments