जगदम्बा प्लांट में हादसा ठेकाकर्मी बुरी तरह घायल मामले को रफादफा करने लगाया एड़ी चोटी …..प्लांट के बाहर दुर्घटना की उड़ाई अफवाह … एक निजी अस्पताल में कराया भर्ती … कर्मीयों पर भारी पड़ रहा रसूख ….क्या औद्योगिक स्वास्थ सुरक्षा व पुलिस विभाग लेगा संज्ञान।

जगदम्बा प्लांट में हादसा ठेकाकर्मी बुरी तरह घायल मामले को रफादफा करने लगाया एड़ी चोटी …..प्लांट के बाहर दुर्घटना की उड़ाई अफवाह … एक निजी अस्पताल में कराया भर्ती … कर्मीयों पर भारी पड़ रहा रसूख ….क्या औद्योगिक स्वास्थ सुरक्षा व पुलिस विभाग लेगा संज्ञान

रायगढ-/-जोरापाली स्थित जगदम्बा प्लांट जहां टेलर बॉडी बनाये जाने का कार्य किया जाता है।बीते रविवार को यहां एक हाइड्रा से दुर्घटना में एक ठेकाकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गया था।जिसे प्लांट प्रबन्धन द्वारा निजी चिकित्सालय व पुलिस से जानकारी छिपाते हुए ईलाज के लिए दाखिल करा दिया गया।यह इस प्लांट में दुर्घटना होने का पहला मामला नही है। जानकारों की माने तो उक्त हाइड्रा चालक द्वारा पूर्व में भी दुर्घटनाओ को अंजाम दिया गया है। बावजूद इसके प्लान्ट प्रबन्धन श्रमिको की जान जोखिम में डाल उस पर मेहरबानी बनाये हुये है।तो क्या प्रबन्धन और भी बड़े हादसे का ईनतजार कर रहा है जिसके बाद वह अपनी चिरनिंद्रा से जाग सके।यहां फिर भी सवाल जस का तस ही है कि आखिर प्लांट में हुए दुर्घटना की जानकारी सम्बन्धित थाने में क्यो नही दी गयी? क्या प्लांट प्रबन्धन नियम कानून से भी ऊपर है जिसे दुर्घटना की जानकारी छिपाने से भी गुरेज नहीहै।

नही है ठेका श्रमिको का बीमा न है सुरक्षा के संसाधनों का इंतजाम

गौरतलब हो कि जोरापाली के जगदम्बा प्लांट में कुछ दिनों पूर्व ही एक मिस्त्री को हादसे में हाथो में गम्भीर चोट आई थी। वही एक बार फिर ठेका श्रमिक के गम्भीर रूप से चोटिल होने की बात सामने आ रही है।वही इस सबंध में जब पेज 11 न्यूज़ द्वारा चोटिल युवक के पेटी ठेकेदार स्लमानसेबत की गई तो उसने माना कि उसके द्वारा अब तलक अपने कामगारों का बीमा नहीँ कराया गया है।न ही सुरक्षा के संसाधनों का इंतजाम कराया गया है। बहरहाल अब इन परिस्थितयो में कार्यरत श्रमिको की सुरक्षा का भगवान मालिक ही नजर आ रहा है।

ठेका श्रमिक ने जानकारी छिपाने का प्रबंधन और लगाया आरोप

इस पूरे मामले में जहां सर्वप्रथम प्लांट प्रबन्धन को हादसे की जानकारी पुलिस को दी जानी थी।परंतु ऐसा न कर आनन फानन में गलत जानकारी के साथ उपचार के लिए निजी हॉस्पिटल में दाखिल करा दिया गया। हालांकि पेटी ठेकेदार न केवल घायल श्रमिक के उपचार की जिम्मेदार लेने को तैयार है बल्कि उसकी स्थिति में सुधार होने तक उसे पारिश्रमिक देने की बात पर सहमति भरते नजर आ रहा है। वही पुलिस से घटना की जानकारी छिपाने व निजी चिकित्सालय में हादसे के कारण को गलत बताने की जिम्मेदारी पेटी ठेकेदार सलमान द्वारा प्लांट प्रबन्धन पर थोपी गई है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,140FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles